शनिवार, 15 मई 2010

भुतही कहानियों के बीच छिपा एक इतिहास (एपार जौनपुर -ओपार जौनपुर )

बचपन से ,जौनपुर जाते -आते एक वीरान इमारत को देखता-समझने की कोशिश करता लेकिन बात भूतों -प्रेतों पर आकर टिक जाती. सन १३६१ इस्वी के बाद जौनपुर में शर्की वंश के राज काल में बनी इमारतों में "बारादुअरिया " भी है लेकिन इतिहास के पन्नो में वास्तुकला के इस धरोहर को क्यों स्थान नहीं मिला मुझे समझ में नहीं रहा.जौनपुर -लखनऊ राज मार्ग पर जौनपुर शहर के पूरब सड़क से लगभग ३०० मीटर पर यह " बारादुअरिया " स्थित है. कहते हैं यह राजवंश की रानियों का स्नानागार था या फिर सदानीरा गोमती से सटा होने के कारण रनिवास की रानियाँ यहाँ प्राकृतिक छटा का अवलोकन करने आती थी .जो भी हो लेकिन आश्चर्य है कि जौनपुर के इतिहास लेखन में भी इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया
दन्त कथाओं में कहा जाता है कि इस भवन के अन्दर बीचो -बीच एक बहुत गहरा कुआँ हुआ करता था और भवन के गुम्बज के बीचो-बीच सोनें का एक घंटा बंधा था, जिसे निकालने के चक्कर में एक चोर मगरगोह की मदत से घंटे तक पहुच गया था लेकिन घंट का वजन मगर गोह नहीं सभाल सका और घंट समेत कुएं में जा गिरा था,कुएंको इसके बाद समाप्त कर दिया गयाइस भवन में नाप-जोख कर कुल बारह दरवाजे हैं शायद इसीलिये इसे बारादुअरिया कहा गया.दंतकथाओं में भूत-प्रेतों से जुडी इतनी कहानियाँ इस कारण लोग इस तरफ आनें से कतराते रहे ,यहाँ अब केवल सांपो और मगर गोह का ही राज हैइस बारे में फिर कभी विस्तृत रपट प्रस्तुत करूंगा अभी तो इसके ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य का अध्ययन मैंने शुरू ही किया है.जो भी हो लेकिन वास्तु कला का बेजोड़ नमूना यह भी है जिसका अवलोकन आप चित्रों में भी कर सकते हैं-
'




















(सभी चित्र -जावेद अहमद )

52 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर विवरण, ओर अति मन मोहक चित्र,
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, इस पर तो कभी ध्यान ही नहीं गया था।


    बढिया जानकारी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिश्रा जी,
    बहुत सुंदर आलेख और उतने ही मोहक चित्र.
    "मगर गोह" के बारे में भी सचित्र जानकारी दे सकें तो आभार! धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. चित्र सुंदर हैं। नदी किनारे के भवन हमेशा आकर्षक होते हैं। शायद भूतों के भय ने ही इसे अब तक बचा रखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Post to sundar haihi..tasveeren,ek pur kashish gudhta liye nazar aati hain...bahut der tak dekhti rahi..

    उत्तर देंहटाएं
  6. inke bare me bahut suna hai par kabhee jana naheen ho paya .dr .sahab ummeed hai jab milenge to sab janenge .

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनोज जी पूर्वांचल में ऐसे बहुत से ऐतिहासिक धरोहर आज भी वास्तुकला के बेहतरीन नमूने प्रस्तुत करते है....आपकी कड़ी बहुत अच्छी लगी..राजा-महाराजा से जुड़े ऐसे ऐतिहासिक जगह पर भूत-प्रेत का वास होता ही है ऐसा लोगो की मान्यताएँ है..

    बढ़िया प्रस्तुति..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. सर्वप्रथम तो जन्म दिन की ढेरों शुभकामनाएँ....

    "बारादुअरिया " के चित्र इसकी विशालता और दुर्दशा की कहानी स्वतः कहते हैं...
    ..इस पोस्ट को देखकर एक बात यह भी समझ में आती है कि हमारे आसपास कितना कुछ है देखने, समझने और बताने के लिए..!
    ..आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये घड़ी का क्या चक्कर है..? इस समय मेरी घड़ी में १६ मई प्रातः ६.३० हुआ है...देखे कमेन्ट के बाद क्या समय दिखाता है..!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर विवरण .. सुन्दर चित्र

    उत्तर देंहटाएं
  11. जन्मदिन पर बधाइयाँ। मुझे तो यह जगह और इसका परिचय एक बहुत बढ़िया कथा का विषय लग रहा है।
    क्या पता उस चोर की प्रेमिका ने घंटा उतारने की शर्त लगाई हो ? जिस समय घंटा उतारा जा रहा हो प्रेमिका ने ही गोह को कुछ कर दिया हो!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपने गोमती के दर्शन भी करा दिए और बारादुअरिया के भी , सुन्दर चित्रों सहित । ईमारत का अन्दर का भाग तो बड़ा खूबसूरत लगता है , नक्काशी वाला । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इसमें भूत-वूत नहीं हैं, नहीं तो फोटू खिंचवाने आ जाते।
    नई जानकारी मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही रोचक स्थल लगा.
    चित्र देख कर लग रहा है कि काफी चहल पहल वाली जगह रही होगी कभी.
    क्या अब भी कहीं वो गहरा कुआं इस में है?
    सोने के घंटे की क्या किसी ने तलाश नहीं की उस कुएं में जा कर ?जैसे जयगढ़ किले में छुपे खजाने को तलाशा गया था!
    अब तो बहुत सारी आधुनिक सुविधाएँ हैं.
    ---------------
    पानी में पोसिटिव उर्जा होती है इसलिए पानी के पास की जगह में भूत [मतलब नेगटिव उर्जा ]नहीं टिक सकते.
    ------------------
    इस स्थान का अध्ययन आप ने शुरू किया है.शुभकामनाये.
    ----------------------
    दन्त कथाये सब झूटी नहीं होतीं..गुम्बज पर घंटा था या नहीं इस के भी चित्र देख कर अनुमान लगाया जा सकेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सबसे पहले जन्मदिन की हार्दिक शुभ-कामनाएं

    बहुत सुंदर विवरण, ओर अति मन मोहक चित्र,

    धन्यवाद

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. इसे दिखाने के लिये बुलवाइये.. तभी मानेंगें.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आदरणीय पंडितजी, आप हमें अत्यंत प्रिय इसीलिए हैं कि आपके ब्लॉग पर जब भी आना होता है दिल खुश ही होकर और दिमाग बहुत कुछ पाकर ही जाता है। सच पंडितजी इस ऊब और झगड़े-टंटों से भरे गर्म रेगिस्तानी जंगल में आपका सुंदर ब्लॉग और लेख शीतल फ़ुहारें लेकर आते हैं।
    तमसा तट, कनक भवन, रामजी और उनके ५ हज़ार सैनिक, गौरैया और मक्के के दाने, प्यारे मित्र से बरसों बाद मिलन,परशुराम कथा, कुमारियों की कमी, बारादुअरिया की बेजोड़ वास्तुकला और उसकी सुन्दर तस्वीरें। आज सब पढ़ा। अहा!
    आपका आभार कैसे चुकाएँगे हम पंडितजी ?
    आज अक्षय तृतीया महापर्व पर आपको और आपके प्रियजनों को हार्दिक शुभकामनाएँ एवं प्रणाम।

    उत्तर देंहटाएं
  18. जन्मदिवस की हार्दिक बधाई मिस्र जी ।
    शुभकामनायें स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. जन्मदिन और भगवान परशुराम जयंती अवसर पर हार्दिक शुभकामनाये .

    उत्तर देंहटाएं
  20. भुतहा इमारत में इतनी खोयी कि जन्मदिवस की बधाई देना भूल गयी थी.
    आप को जन्मदिवस की ढेरों शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  21. डॉ मनोज मिश्र जी आप को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और ढेरो शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  22. जौनपुर देखना होगा!
    चित्र देख भूतों से ईर्ष्या होती है।
    बधाई जन्म दिन की मनोज जी।

    उत्तर देंहटाएं
  23. देर से सही, जन्म दिन मुबारक हो. बहुत बधाई.

    पोस्ट के माध्यम से अच्छी जानकारी मिली. आगे विस्तार का इन्तजार रहेगा.

    फोटो बहुत बढ़िया हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  24. जनमदिन की ढेरो बधाई और शुभकामनाये!

    उत्तर देंहटाएं
  25. चलिए आपने इतिहास लिख दिया !
    अब इतिहास वाले भी नोटिस कर लेंगे !
    .......
    चित्र बड़े मोहक हैं ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बढ़िया रिपोर्टिंग डाक्टर साहब .........आगे की जानकारी कब दे रहे है " बारादुअरिया " के बारे में ??

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही रोचक आलेख
    जनमदिन की ढेरो बधाई और शुभकामनाये!
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुंदर विवरण ओर सुंदर चित्र

    अच्छी जानकारी मिली

    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  29. आप तो फोटो खिंच लाये, आपको डर नहीं लगा... ?
    ब्लॉग्गिंग जो ना करवाए :)
    देखिये गिरिजेश भैया को कहानी भी दिख गयी... बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं
  30. मुझे नहीं पता था की जौनपुर में ये सब भी है । आपकी पोस्ट से मुझे मालूम हुआ । सुन्दर पोस्ट और साथ ही जावेद सर की फोटोग्राफी के क्या कहने अदभुत......

    उत्तर देंहटाएं
  31. देश में ऐसे अनेक स्थल हैं जो ऐतिहासिक महत्त्व के हैं, लेकिन उपेक्षित हैं.एक ऐसे ही स्थल की जानकारी आपने दी है.

    उत्तर देंहटाएं
  32. bahut dilchasp baat batai..photoes bhi bahut achche lage.

    उत्तर देंहटाएं
  33. खूबसूरत प्रविष्टि ! बहुत कुछ जानने को मिला !

    उत्तर देंहटाएं
  34. photo ko dekh kar darr sa laga !!!

    http://liberalflorence.blogspot.com/
    http://sparkledaroma.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  35. apne to utsukta badha di. Jaunpur ko kafi samay se janta hoon par iske baare me kabhi suna nahi tha. Achcha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  36. ab to mujhe bhi baraduariya dekhana hi padega
    pls is subject par aur jayada batane ki kripa kare (amit jayswal)

    उत्तर देंहटाएं
  37. सुन्दर विवरण और आकर्शक तस्वीरें। आपको जन्म दिन की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  38. मुझे ऐसे रहस्यमय स्थल ...खंडहर जिनमें पुराना इतिहास छिपा ही बहुत अच्छे लगते हैं ! बचपन में ऐसी जगह जाकर बारीकी से देखने का प्रयत्न करता था ...मन करता था की काश मैं भी पुरातत्ववेत्ता होता !

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत ही सुन्‍दरता से प्रस्‍तुत किया आपने और विवरण भी रोचक, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  40. bahut achchhi post lagayi aapne isake baare aur kuchh bataaayen ... saaree photo tilism ki ek duniya dikha rahin hain .jis samay ko hamane nahin deklha vah tilismee hi to lagataa hai ..

    उत्तर देंहटाएं
  41. The post is very interesting but I want to know where have you been lost for so many months ?

    उत्तर देंहटाएं
  42. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  43. शुक्रिया इस जानकारी के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  44. मनोज मिश्र जी आपका ब्लॉग मैंने पढ़ा बहुत बहुत अच्छा लगा. आपकी फोटो का संग्रह भी बहुत पसंद आया. बहुत बहुत सुभकामना मिश्र जी. मेरे ब्लॉग को भी देखिएगा. देवकी नंदन मिश्र
    www.mishradeoki.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  45. ham chahate hai ki shighrat shighra is visay ki vistrit vyakhya karein

    उत्तर देंहटाएं
  46. ham chahate hai ki shighrat shighra is visay ki vistrit vyakhya karein

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !