शुक्रवार, 9 अप्रैल 2010

मित्र मिलन की अजब कहानी..........

पुरानी फ़िल्मी कहानियों में मिलन के लिए अक्सर कुम्भ मेले का सदुपयोग होता था लेकिन अब ब्लॉग-जगत के महाकुम्भ नें मुझे मेरे मित्र से मिला दिया.मैं बात कर रहा हूँ अपनें सहपाठी मित्र अभय तिवारी की,जो कि मेरे साथइलाहाबाद विश्वविद्यालय के डायमंड जुबिली हास्टल में १९८५ से १९८९ तक साथ रहे थे.हम दोनों का एक ही सत्र में हास्टल में प्रवेश, साथ-साथ नंग-धडंग रैगिंग -साथ ही साथ -पढाई ,-लड़ाई वामपंथ-दक्षिण पंथ के मुद्दों पर बहस आदि-आदि.अभय वामपंथी विचारधारा के सजग प्रहरी थे और मैं दक्षिणपंथी.दोनों के अलग-अलग मत -तर्क लेकिन कई एक मुद्दों पर समानता के चलते मित्रता कायम रही .१९८९ से जो हम बिछड़े तो अब २०१०में पूरे २१ वर्षों बाद ,ब्लॉग पर मिले. हालाँकि मैं अभय के ब्लॉग से परिचित था लेकिन ब्लॉग पर लगी हुई उनकी तस्वीर ऐसी है कि स्पष्ट नही होता था.होली पर हमारे एक हास्टल के सीनियर का शुभकामना फोन आया था ,बात -चीत चल रही थी मैंने कहा क्या कर रहे हैं सर , उन्होंने कहा कि अभय का ब्लाग पढ़ रहा हूँ .मैंने कहा कौन अभय ?फिर उन्होंने जब बताया तो मैं तुरंत अभय से बात करनें को उत्सुक हो गया लेकिन अफ़सोस उस समय उन्हें अभय का फोन नंबर न मिल पाया . होली पर ही हमारे बड़े भइया डॉ अरविन्द मिश्र जी घर पर थे मैंने इसका जिक्र उनसे किया ,उन्होंने हैरानी जताई कि अभय से तुम पूर्व परिचित हो,उन्होंने कहा कि मेरी तो कई बार अभय से बात हुई है. उन्होंने तुरंत अभय का मोबाईल नम्बर डायल कर स्वयं बात की फिर मेरी बात कराई.अभय नाम लेते ही पहचान गये ,भूली बिसरी यादें ताज़ा हुई....और बातों का सिलसिला चल पड़ा.
फिल्म निर्माण से जुडा जान कर मैंने अभय द्वारा निर्देशित कुछ फिल्मों को देखनें की इच्छा प्रकट की जिसे स्वीकार कर अभय नें अपनी
लघु फिल्म -'सरपत' पोस्ट से मेरे पास भेज दी ,जिसका आज मेरे विभाग में चल रहे एक कार्यशाला के दौरान प्रदर्शन किया गया.नई दिल्ली से आये हुए मॉस-कम्युनिकेशन और इलेक्ट्रानिक मीडिया के वरिष्ठ प्राध्यापक श्री अभिषेक श्रीवास्तव,प्रतिष्ठित फोटोग्राफर जव्वार हुसैन और हमारे विभाग के सभी प्राध्यापकों और विद्यार्थियों के समक्ष सरपत प्रदर्शित हुई .फिल्म सभी को बेहद पसंद आयी और बाद में इस फिल्म के विविध पहलुओं पर परिचर्चा भी आयोजित हुई .....










(चित्र जावेद अहमद)

46 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! यह हुई न बात! मजा आ गया पढ़कर.. कुछ तो दम है ब्लागिंग में।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बधाई! अभय तिवारी से मिलने की।
    हमें तो यहाँ ऐसे बहुत लोग मिले हैं जिन से मिल कर लगा कि हम मिलने के लिए बने थे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभय के सरपत की बड़ी चर्चा है वह सरपट दौड़े यही इच्छा है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आइला, ये आप के सहपाठी हैं !
    अपने भी बड़े खास हैं। इनकी खास फोटुएँ मैंने रखी हैं - जब लखनऊ आए थे तो मुझ नाचीज से मिले थे। 'सर्वहारा' खाना खा कर जिस तरह से तृप्त भए थे, हमको इनके वामपंथी होने में कोई शक्को सुबहा नहीं रहा :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन प्रस्तुति..बधाई.

    *********************
    "शब्द-शिखर" के एक साथ दो शतक पूरे !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बधाई बिछड़े हुए दोस्तों के वापिस मिलने पर

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब तो सिद्ध हो गया कि ब्‍लॉगिंग हमारे कितने काम आ सकती है .. आपलोगों को बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत प्रस्तुति...आपका ब्लॉग बेहतरीन है..शुभकामनायें.
    ************************
    'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर हम प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटे रचनाओं को प्रस्तुत करने जा रहे हैं. जो रचनाकार इसमें भागीदारी चाहते हैं,वे अपनी 2 मौलिक रचनाएँ, जीवन वृत्त, फोटोग्राफ hindi.literature@yahoo.com पर मेल कर सकते हैं. रचनाएँ व जीवन वृत्त यूनिकोड फॉण्ट में ही हों.

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह तो बहुत ही सुखद घटना हुई.
    ब्लॉगजगत में ऐसा शायद पहली बार हुआ होगा.'सरपत' फिल्म की समीक्षा का इंतजार रहेगा.
    आप दोनों मित्रों को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच में, मंजुल से अचानक इस तरह ब्लौग की दुनिया में टकरा जाना एक झटका ही था, एक सुखद झटका। सशरीर मिलना अभी भी शेष है लेकिन मेल और फोन से मिलन तो हो ही गया है। :)
    आप सभी मित्रों को जो हमारी दोस्ती के इस पुनर्जीवन से प्रसन्न हैं, बहुत बहुत धन्यवाद। विशेषकर भाई गिरिजेश को!

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह बधाई वाकई ब्लागिंग बहुत काम की चीज है :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह भी बढ़िया रही मिस्र जी । बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ब्लॉगिंग से घटा यह संयोग सुखकर लगा होगा आपको !
    सरपत देखने की बहुत इच्छा हो गयी है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. इन्टरनेट बहुत सारे बिछड़े मित्रो को मिला रहा है ...यदि मित्रता में ईमानदारी हो तो अच्छा माध्यम है ...वर्ना ...तो ...सब माया का संसार ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. अभय बढ़िया इन्सान हैं। भगवान करें सोच सेकुलरही से नॉर्मल हो जाये! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  16. Wakai Blog Ek Samudr Ki Tarah Hai Jisame Har Dubi Hui Wastu Ek Na Ek Din Zaroor Upar Ki or Aati Hai........
    Aur Rahi Baat "Sarpat" Ki To Ham Bhi Dekhne ke Ichhuk Hai "Sarpat"

    उत्तर देंहटाएं
  17. बड़ी अच्छी बात हुई यह..यह भी पता चलता है कि इन्फ़ार्मेशन-बूम का यह ग्लोबल युग कैसे भौतिक दूरियों को खत्म कर रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह! बहुत बढ़िया! उम्दा प्रस्तुती! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  19. achcha raha sir. Ap logon se milne ka bahut man hai, dekhiye kab tak sambhav ho pata hai.

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह ... ब्लोगिंग तो दिलों को भी मिलाने लगी है !
    यहाँ JNU में 'सरपत' देखी है , मूवी शो के दौरान , भाषा और
    अंतर्वस्तु दोनों ने मन मोह लिया था ..
    फिल्म से जुड़े आदमी से आपकी फ़िल्मी मुलाक़ात अच्छी लगी ..
    दोस्ती चालू आहे ;;;;;;;;;;;;

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खूब! ज्ञानजी बताओ अभय को अच्छा इन्सान बताते हैं लेकिन उनकी सोच को नार्मल ही नहीं मानते। :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. सरपत देखने की हमारी भी बहुत इच्छा है, अब जब भारत आयें तो देखें.

    उत्तर देंहटाएं
  23. aapiseek achha sanyog bhi kah sakte hai blog jagat ke jariye aapko apne bachpan ke mitra mile isase aapko jo khushi mili hogi uskka anuman main lagga sakati hun kyon ki main bhi apni bachpan ki dost se pure satrha saloon baad mili thi. ese hi kahate hai sachchi dosti .aapko apne mitra se punah milne ki bahut bahut badhai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  24. अब तो पुराने मित्र खोजने का यही सहारा बनता जा रहा है। आपको बधाई कि आपको आपके मित्र मिले।

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह तो बहुत ही सुखद घटना हुई.....दोनों मित्रों को बहुत बहुत बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेहतरीन लेख यादों का कोलाज बनाया आपने ................. देर से आप तक आने की लिए माफ़ करेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपको बधाई देने का मन कर रहा था इसलिए ब्लॉग के मार्फ़त ही यहाँ चला आया , ब्लॉग रत्न सम्मान पर आपको ढेरो बधाइयां और आप इसके प्रबल हकदार भी थे !

    उत्तर देंहटाएं
  28. यह तो कुछ लम्बा मिलन हो गया अंकल जी...

    ________________
    'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर करना न भूलें !!

    उत्तर देंहटाएं
  29. आज ही मालूम हुआ .
    संवाद ब्लॉग रत्न सम्मान पर आपको ढेरो बधाइयां.

    उत्तर देंहटाएं
  30. ... और हम तो आप दोनों के ही पुराने पंखे (fan) हैं. (सहमति-असहमति का कोई ज़िक्र नहीं)

    उत्तर देंहटाएं
  31. हम जैसे आम जन फिल्म "सरपत" कैसे देखें ये बताएं...कहीं दूकान में इसकी सी.डी. तो मिलती नहीं...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  32. जिनके नाम वही हैं जो सदा थे, वे यहाँ या कहीं भी एक दूसरे से टकरा सकते हैं, टकराते हैं परन्तु नाम बदलने वाली जीव क्या करें? इसीलिए वे स्वनामी हो जाती हैं। ना जन्म का नाम न विवाह के बाद का। ना किसी के पहचानने या न पहचानने की सम्भावना बचती है और न दुख।
    आप दोनों इस आभासी संसार में ही मिले बहुत खुशी हुई।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  33. ************
    'पाखी की दुनिया में' पुरानी पुस्तकें रद्दी में नहीं बेचें, उनकी जरुरत है किसी को !

    उत्तर देंहटाएं
  34. aapko pehli baar padha achha laga..
    yun hi likhte rahein...
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  35. संवाद ब्लॉग रत्न सम्मान पर आपको ढेरो बधाइयां.

    उत्तर देंहटाएं
  36. Your technical and live presentation on blog is praiseworthy .I remember well the live FAG on holy.

    उत्तर देंहटाएं
  37. @-- यदि मित्रता में ईमानदारी हो तो अच्छा माध्यम है ...वर्ना ...तो ...सब माया का संसार ...!!

    Vani ji se sehmat

    उत्तर देंहटाएं
  38. Aapko blogging ke zariye dost mil gaya iski badhayi! Ye to badee khushika awsar hua aapke liye!
    'Sarpat' jaisi film ham aam log kahan dekh sakte hain,kya aap bata sakenge?

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !