बुधवार, 26 अक्तूबर 2011

शुभ दीपावली ...


अपने सभी मित्रों, आदरणीय जनों को प्रकाश पर्व पर बहुत-बहुत शुभकामनायें..... शुभ दीपावली ..... जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। नई ज्योति के धर नए पंख झिलमिल, उड़े मर्त्य मिट्टी गगन स्वर्ग छू ले, लगे रोशनी की झड़ी झूम ऐसी, निशा की गली में तिमिर राह भूले, खुले मुक्ति का वह किरण द्वार जगमग, ऊषा जा न पाए, निशा आ ना पाए जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। सृजन है अधूरा अगर विश्‍व भर में, कहीं भी किसी द्वार पर है उदासी, मनुजता नहीं पूर्ण तब तक बनेगी, कि जब तक लहू के लिए भूमि प्यासी, चलेगा सदा नाश का खेल यूँ ही, भले ही दिवाली यहाँ रोज आए जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। मगर दीप की दीप्ति से सिर्फ जग में, नहीं मिट सका है धरा का अँधेरा, उतर क्यों न आयें नखत सब नयन के, नहीं कर सकेंगे ह्रदय में उजेरा, कटेंगे तभी यह अँधरे घिरे अब, स्वयं धर मनुज दीप का रूप आए जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। ------ गोपालदास "नीरज"

33 टिप्‍पणियां:

  1. आई है दिवाली देखो संग लायी है खुशियाँ देखो.
    यहाँ, वहां, जहाँ देखो
    आज दीप जगमगाते देखो!
    शुभ दीपावली!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति ।
    आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें मनोज जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. .. आपको भी दीपपर्व की शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको भी परिवार सहित दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. गोपाल दास नीरज की यह कविता उनके मुख से सुनने का सौभाग्य मिला है। एक पंक्ति को पकड़ कर मैने भी लिखा था....

    जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना
    जरुरत से ज्यादा कहीं जल न जाये।

    मिलावट करो पर रहे ध्यान इतना
    खाते ही कोई कहीं मर न जाये।

    करो पाप लेकिन घड़ा भी बड़ा हो
    मरने से पहले कहीं भर न जाये।

    ....शुभ दीपावली।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दीपावली पर शुभकामनायें स्वीकार करें !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीरज जी की सुंदर रचना की प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई…। दीपोत्सव के चतुर्थ दिवस "गोवर्धन पूजा" की अनेकों शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Bahut sundar rachana hai!
    Aapko Diwalee bahut,bahut mubarak ho!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको एवं आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  11. नीरज जी का यह गीत बहुत पसंद है मुझे भी. आभार इसे यहाँ पढवाने का.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  13. दिवाली पर सामायिक कविता से रूबरू करवाया है आपने. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति दी है आपने ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. सभी शुभ आशाएं पूर्ण हो ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेर नए पोस्ट "अपनी पीढ़ी को शब्द देना मामूली बात नही है " पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. नीरज जी की सुंदर रचना के लिये बहुत बहुत बधाई.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रिय मनोज जी नीरज जी की यह रचना याद दिलाया आप ने मन हर्षित हुआ ये सदा बहार है ..आभार आप का .....दीवाली सब के मन को रोशन करे सदा .....जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    कटेंगे तभी यह अँधरे घिरे अब,
    स्वयं धर मनुज दीप का रूप आए
    जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना
    अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  19. INDEED, OUR LAMP SHOULD NOT BE ONLY FOR OURSELVES BUT FOR ALL THE HUMANITY. ONLY THE LIGHTED BEHAVIOR OF HUMAN BEING CAN BRING THE PEACE AND PROSPERITY IN THE WHOLE WORLD. THANKS FOR THE INSPIRING POEM.

    उत्तर देंहटाएं
  20. कब तक दिया जलायें? जाड़े में टोली कुछ गा-बजा नहीं रही है!..सुनिये न।

    उत्तर देंहटाएं
  21. महान रचनाकार नीरज की पंक्तियों को पढवाने के लिए आपका साधुवाद मनोज जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    इस रिश्ते को यूँ ही बनाए रखना,
    दिल मे यादो क चिराग जलाए रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2011 का,
    अपना साथ 2012 मे भी इस तहरे बनाए रखना,
    !! नया साल मुबारक !!

    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया, आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से नया साल मुबारक हो ॥


    सादर
    आपका सवाई सिंह राजपुरोहित
    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपके उत्‍कृष्‍ठ लेखन का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. कभी-कभी कोई पोस्ट डाल दिया करें...समय निकाल कर..

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस शमा को जलाए रखें।

    ईद की दिली मुबारकबाद।

    ............
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. नववर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !