गुरुवार, 9 जनवरी 2014

आम आदमी तो बेचारा ही रहेगा.......

नई सुबह की गर्मजोशी से स्वागत करने की हम भारतीयों में बहुत पुरानी परम्परा रही है। जितनें भी प्राचीन  मनीषी,कवि  और विचारक रहे वे भी समय-समय पर इस बिंदु  पर जन मानस को आगाह भी करते रहे। आर्ष कवि कालिदास और भारत में द्वितीय नगरीकरण के जनक भगवान गौतम बुद्ध  जी को भी इस विषय में अपना मत देना पड़ा था। आप दोनों का मानना था कि प्रबुद्धजन परीक्षण के उपरान्त ही किसी बिंदु को ग्रहण करते हैं न कि  इसलिए कि  यह हर तरह से श्रेष्ठ  है। भारत में रचने -बसने वाली हर संस्कृति -धर्मं का स्वागत भी इसी तरह बहुत गर्मजोशी से हुआ परन्तु अंततः उनका क्या हश्र हुआ । कई धर्म -संस्कृति समेत बहुत सारे  पंथ और नीति -निर्देशक इस श्रेणी में आते हैं जिसका नामोल्लेख कर मैं एक नये विवाद को जन्म नहीं देना चाहता। यहाँ तक कि जब विदेशी आक्रान्ताओं नें भारत पर अपना कब्जा जमाना चाहा तो अपनी रणनीति के जरिये अपनी  सेनाओं के आगे बहुरुपियों की टोली को भूत-बेताल-राक्षस के वेश में जनता के सामनें प्रस्तुत करते चलते रहे और उनके स्वागत में हमारा जनमानस मारे  डर  के गाँव  के गाँव खाली करता रहा और अनेक अवसरों पर बिना युद्ध के ही भू -भाग पर उनका कब्ज़ा होता रहा। 
आज -कल देश की राजनीति में एक नई पार्टी की भी इसी तर्ज़ पर खूब चर्चा -स्वागत  है। वस्तुतः जहां तक मेरा मानना है यह भी तुरत -फुरत अल्प सेवाभाव भाव से सत्ता का मेवा प्राप्त करने का ही साधन ही  अंत में साबित होने वाला है। इस अभियान में कुछ एक शीर्षस्थ ही लोग हैं जिनमें समाज सेवा  और लोंगो के दर्द से लेना देना है बाकि तो उस नाम के  सहारे अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा की सिद्धि में ही लगे हैं। यह राजनीतिक दल लोंगों की अव्यक्त भावनाओं से जुड़ा है लेकिन आज-कल  वही लोग इस दल से लोकसभा का चुनाव लड़ने के लिए ज्यादा सक्रिय दिख  हैं जिन्हे लगता है कि दशक दो दशक नहीं बल्कि कुछ-एक महीनों  की ही समाज  सेवा में  सत्ता का अमृत मिलने वाला है। इस दल से जुड़े  सच्चे बन्दे तो अभी भी नेपथ्य में ही हैं। 
मैं पूर्वांचल के पिछड़े इलाके के एक गाँव में हूँ यहाँ तो अधिकांशतया राजनीति में वही सफल होता आया है जो जितना ज्यादा झूठ बोले और सब्ज़बाग दिखाए। हमारे यहाँ तो पिछले पंचायत चुनाव परधानी में भी उसी नें फतह हासिल की जिसने जितनी जिम्मेदारी से सबसे ज्यादा झूठे वायदे किये। सच्चे बन्दों के आंसुओं को भी देखने वाला कोई न था। …… आम आदमी तो बेचारा ही रहेगा। 
……… वो झूठ बोल रहा था बड़े सलीके से ,
            मैं ऐतबार न करता तो और क्या करता।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाईसाहब मैं भी रोज़ यही देख रहा हूँ ... मैनपुरी भी बहुत बड़ा शहर नहीं है ... आजकल टोपी लगाए निरे सर्टिफाइड "ईमानदार" दिख जाते है ... जिन का इतिहास कुछ और ही कहता है |
    पर आजकल यही फ़ैशन मे है ... क्या करें !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईमानदारी और आम आदमी कुछ समय का फैशन बन कर ही न रह जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्पष्ट, सधे हुए विचार ..... सम्भवतः यही होने वाला है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. नई व्यवस्थायें असह्य हो चली अव्यवस्थाओं की प्रतिक्रियास्वरूप ही जन्म लेती हैं -वैदिक हिंसा और रूढ़ वैदिक कर्मकांडों ने बुद्ध को मौका दिया -आज राजनैतिक क्षितिज पर एक नया आंदोलन उभर रहा है -यह उस राजनैतिक व्यवस्था के सड़ांध से प्रेरित है जहाँ दिखावा है ,झूठे वायदे हैं, कथनी करनी का अंतर है ,भाई भतीजा वाद और जातिवाद है, मजहब के नाम पर दुरभिसंधियां हैं. क्षद्मधर्मनिरपेक्षतावाद है ,महापुरुषों के नाम पर अपनी धंधेबाजी है. महाभ्रष्ट लोग हैं ,कथित वी आई पी कल्चर है,शोषण हैं! यह सही है कि इस बयार में कुछ घुसपैठिये भी अपनी दाल गलाने की फिराक में है मगर बचेगा वही जो सचमुच त्याग और जनसेवा करना चाहता हो! तुम्हे भी बिना समय गवाएं आप पार्टी ज्याइन कर लेनी चाहिए!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तुम्हे भी बिना समय गवाएं आप पार्टी ज्याइन कर लेनी चाहिए!??
      ------अभी इनके उद्देश्य और आदर्श को परख रहा हूँ।

      हटाएं
  6. सत्य कथन।

    यह एक ऐसा आंदोलन है जिसने सभी में अच्छा दिखने की होड़ मचा दी है। अच्छे हो भी जांय तो क्या बात हो..! वैसे जो हो रहा है वह भी कम अच्छा नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. @ वो झूठ बोल रहा था बड़े सलीके से, मैं ऐतबार न करता तो और क्या करता।।

    - दो पंक्तियों में दिल्ली के वर्तमान घटनाक्रम का सार रख दिया आपने

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब तो दूध और पानी का पता चल गया है..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !