रविवार, 20 मार्च 2011

मत करहूँ मलिनियाँ से यारी-----फाग गीत -चौताल

रंगों के त्यौहार होली की बहुत-बहुत शुभकामनाओं के साथ,अपनी पिछली पोस्ट के क्रम में आज फाग-गीत की एक विधा चौताल प्रस्तुत है.फगुआ गायनमें विशेष कर चौताल ( अर्द्ध तीनताल,दादरा,कहरवाऔर फिर अर्द्ध तीनताल ) का आनंद, क्या कहनें.आज इस पोस्ट में चौताल का एक पद ही शामिल किया गया है जिसको स्वर दिया है बाबू बजरंगी सिंह नें.इस गीत में नायिका अपने प्रिय से कहती है कि आप मलिनियाँ (फूल-माला देने वाली महिला ) से यारी मत कीजिये .उसके इन्तजार में आप फुलवारी में खड़े रहते हैं जो कि बहुत लज्जाजनक है और मेरे लिए शर्म की बात है।
इस फाग गीत के बोल हैं-----
मत करहूँ मलिनियाँ से यारी,बलम तोहें बरज-बरज हारी ,
रोज-रोज कर कवन प्रयोजन ,ठाढ़े रहत फुलवारी,
तब तुम केलि करत मालिनी संग,मैं तो मर गयी लजिया के मारी ,
मत करहूँ मलिनियाँ से यारी,बलम तोहें बरज-बरज हारी
अब बाबू बजरंगी सिंह के स्वर में सुनिए अवधी का परम्परागत आंचलिक फाग-गीत -चौताल --------



एक बार पुनः होली की ढेर सारी शुभकामनाओं सहित....




29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर फाग! आनन्द आ गया! शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह फाग गीत सुनकर बहुत अच्छा लगा .

    साज और सुर का संतुलित मेल.
    अनूठी प्रस्तुति.
    रंग पर्व की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मत करहूँ मलिनियाँ से यारी,बलम तोहें बरज-बरज हारी ,

    बहुत ही सुंदर फाग गीत. बाबु बजरंगी कि आवाज में मिटटी कि महक है.

    आप और आपके परिवार को होली कि शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. खाँटी अपनी माटी के गीत!
    जय हो।
    सदा आनंदा रहैं यहि द्वारे!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर फ़ाग गीत, होली पर्व की घणी रामराम.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया और उम्दा पोस्ट सर
    होली की ढेर सारी शुभकामनायें !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेचारी नायिका --
    लेकिन गीत बड़ा सुन्दर है भाई ।
    होली की बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Bahut sundar laga ye geet.
    Holee kee dheron shubhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  10. फाग गीत सुनकर मस्ती छा गई जी, बहुत सुंदर गीत, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर फाग गीत ...
    पर्व की बहुत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर ...फाग गीत तो गाँव में ही सुनते थे ...अब तो सिर्फ उस होली की यादें ही बाकी रह गयी हैं ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर फाग गीत....होली की बहुत शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही आनंद दायक गीत सुनवाया, होली की शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  15. इतना सुंदर फाग सुनाने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर फाग! आनन्द आ गया! शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  17. oh hoलि ke baad aaj aayee aapake blog par? magar geet kaa aanand to le liya sundar geet badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  18. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


    अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  20. manoj jee kyaa baat hai aap to faag me hee ulajh kar rah gaye naI posT nahee likhee itane din se?

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत देर से...बेहतरीन फाग गीत...आनन्द आज लिया गया पूरा.

    उत्तर देंहटाएं
  22. Der se ane ka dukh hi....
    par padhane ki utani hi khusi si bhi...

    badhai...
    hamre yaha bhi ayeye.....hamara bhi haushla badhaiye.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !