शुक्रवार, 12 जून 2009

एटम बम और सई नदी की पीड़ा .



अरे चौकिये नहीं ,मैं किसी आण्विक अस्त्र के बारे में बात नहीं कर रहा हूँ .हमारे जिला मुख्यालय से ५० किलोमीटर दूर एक बाज़ार है नाम है सुजानगंज .वहां की एक मिठाई बहुत प्रसिद्द है उसका नाम है एटम-बम .जो इस मिठाई के बारे में नही जानता वह बाज़ार में इस मिठाई का नाम सुन कर चौक जाता है .किसी भी मिठाई की दुकान पर जाइये तो वहाँ एटम बम -एटमबम ही सुनायी पड़ता है .एटम बम खायेंगे या कितने कीलो एटम बम दूँ यही आवाजें आती -जाती रहती हैं .इस मिठाई को देखने से यह राज - भोग का भ्रम पैदा करता है लेकिन यह राजभोग से थोड़ा अलग किस्म की मिठाई है औरशुद्ध गाय के छेने से बनने वाली इस मिठाई का वजन है लगभग १७० ग्राम प्रति .अच्छे -अच्छे लोग इसे एक बार में नहीं खा सकते . हालाँकि हम लोग तो बचपन से ही इसके बारे में परिचित हैं लेकिन दो दिन पहले यहीं एक बारात में मैं शामिल हुआ तो सोचा क्यों न आप सब को भी इससे परिचित कराता चलूं .





ताज़ा -ताज़ा एटम बम


सभी दुकानें एटम बम की

यह सज्जन कितना मगन हैं एटम बम खाने में

और अब दूसरी खबर देखिये - जो कि पर्यावरण प्रेमियों के लिए काफी दुखद है वह यह कि सई नदी की पीड़ा देखी नहीं जाती .इसी बाज़ार के पास से ही प्राचीन नदी "सई" गुजरती है जो कि पूरे क्षेत्र के लिए वरदान से कम नहीं है ,लेकिन वह वरदान अब अभिशाप होने जा रहा है .पूरी की पूरी नदी का पानी काला पड़ गया है .इंसानों की बात तो दूर जानवर भी आस-पास नहीं फटकते .मछलियाँ ही नहीं , नदी में कोई भी जलीय जीव नहीं दिखाई पड़ता है.यह नदी काफी प्राचीन है इसका उल्लेख गोस्वामी तुलसी दास जी नें अपने श्री राम चरित मानस में भी किया है ,जब भरत जी चित्रकूट से वापस आ रहे थे -
सई उतरि गोमती नहाए ,चौथे दिवस अवधपुर आये |
जनकु रहे पुर बासर चारी ,राज काज सब साज सम्भारी ||
(अयोध्या कांड, दोहा संख्या ३२१)







कई सामाजिक संगठन इस नदी में व्याप्त प्रदूषण के निवारण लिए संघर्ष कर रहें हैं पर कोई नहीं सुन रहा है .मुझे लगता है यह हालात तो वाकई चिंता जनक है लेकिन सरकारी महकमें को और जल प्रदूषण विभाग को यह भयावह हालात क्यों नहीं दिख रहा है .




.
ये नदियाँ हमारी जिंदगानी हैं ,इनके बगैर हमारा भी कोई अस्तित्व न रहेगा .कौन हरेगा सई की पीडा को ? क्या इस दौर में फिर कोई भागीरथ पैदा होगा ? ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो कि मुझे कल से ही बेचैन किये हैं . गंगा के लिए तो आवाज़ उठाने वाले कई हैं ,इन नदियों के लिए आवाज़ कौन उठाएगा ?

34 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने भी सई नदी के इस रूप को परसों ही बनारस जाते समय पुल पर से देखा था। आज ब्लॉग पर देख रहा हूं।
    सचमुच काफी दुखद स्थिति बनती जा रही है।

    एटम बम के बारे में तो लगता है ये छेना ही है.....शायद कन्टेंट कुछ अलग हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एटम बम के देख कर मुंह जितना मीठा हो गया था ...साईं नदी के पानी को देख कर मन और तन दोनों ही जहरीला हो गया...लगता है की नदियों के प्रति हम बिलकुल संवेदनहीन हो गए हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  3. एटम बम के बारे में जाना . लगता है कि ये छेना के रसगुल्ले ही है जिसे लोग बाग़ एटम बम के नाम से पुकारते होंगे. जल प्रदूषण के बारे इस पोस्ट के माध्यम से सबके सामने रखने के लिए आभारी हूँ . हम सभी ब्लागरो का का दायित्व है कि समय समय पर इन मुद्दों की ओर सबका ध्यानाकर्षित कराते रहे यह भी हमारी नैतिक जिम्मेदारी है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनों के प्रभाव मारक हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. एटम बम भी सूगर की बीमारी वालों के लिये एटमबम ही है और सई नदी का हाल सुनकर तो एटमबम से जितनी मिठास घुली थी मन मे वो सब कडुआहट मे तब्दील हो गई.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने बहुत अच्‍छा वर्णन किया है, यह सई नही ठीक मेरे गाँव बड़ारी प्रतापगढ़ से होकर बहती है, प्रतापगढ में इसका इतना विस्‍तार है कि इस पर करीब एक दर्जन पुल बने हुये या प्रस्‍तावित है। कभी मौका मिला तो जरूर लिखूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. धन्यवाद, नयी जानकारी मिली आप से,

    पहले पहल तो डरा ही दिया,
    एटम बम दिखा करे के,
    उसके बाद मुँह मधुर कराया,
    एटम बम खिला कर के,

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज कल नदियों की हालत शोचनीय है,सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए,बहुत सुंदर प्रयास आपका,धन्यवाद.

    कल तक नदियों की शोभा थी,
    आज जूझती है, अस्तित्व,
    राम राज मे राज था जिसका,
    ख़त्म हुआ है आज महत्व.

    उत्तर देंहटाएं
  9. काश की सारे युद्धों में इसी एटम बम का प्रयोग हो ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने सुजानगंज यात्रा का बढ़िया उपयोग कर लिया .बहुत ही बेहतरीन खबर .काश सई नदी के लिए कुछ हो पाता .

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिस नदी में मैं बचपन में स्नान करने जाता था। वह तो गायब ही हो गई। बस वहाँ एक नाला बहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरे यह एटम बम्ब तो अभुत सुंदर ओर स्वाद लग रहा है, लेकिन यह नदी का पानी हम सब की गलती से ऎसा हुआ है, अगर सरकार चाहे तो कारण ढुढ कर इस का इलाज कर सकती है

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुँह में पानी आ गया...अब क्या करें...।जाने दीजीए मुँह कसैला भी हो गया.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. एटम बंम को देख कर जो मुँह मे पानी आया था वो सी नदी को देख कर सूख गया ये बात हमे अच्छी नहिँ लगी कम स कम एटम बम का ज़ायका तो लेने देते शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस एटम बम के खाने का जुगाड़ क्या हो सकता है...? सोच कर बताइये.... और नदियों का पूरे देश में कमोबेश यही हाल है.. चिंतनीय...

    उत्तर देंहटाएं
  16. सई नदी के नाला में रूपान्तरण से बहुत कष्ट हुआ। इस अपराध में हम सब भागी हैं। भविष्य के साथ किया अपराध है यह।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बढ़िया पोस्ट है! मिठाई देखकर तो मुह में पानी आ गया! देखा जाए तो नदी की बुरी हालत सभी जगह पर है!शानदार पोस्ट के लिए बधाई! लिखते रहिये!

    उत्तर देंहटाएं
  18. ऐसे एटम बम पर हजारों जिन्‍दगियां कुर्बान हैं।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  19. एटम बोम्ब को देख कर मुंह मैं पानी आ गया जनाब............... पर बहूत ही दुःख हवा............ साईं नदी के बारे में जान कर...... हम भारतवासी शायद सबके बाद जागेंगे.........

    उत्तर देंहटाएं
  20. sir.

    mithayi dekhkar moonh me paani aa gaya

    aur nadi ko dekh kar dil udaas ho gaya .. deshwaasiyon ko specially adhikaariyon ko is baare me kuch karna chahiye...

    dhanyawad.

    vijay
    pls read my new suif poem
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/06/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. uff itna laalach aa raha tha mithayee dekhkar...abhi mann kar raha hai kahin jaake khaa loon!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपने जो मुद्दा उठाया है उसपर एक लम्बी बह्स हो सकती है । आज हमारी नदियों का जो हाल है ,उससे तो यही जान पड़ता है की आने वाले समय में भारत में सबसे पहले जल संकट की शुरआत होगी ।आप से गुजारिश है की एक पोस्ट गोमती के प्रदूषद के बारे में भी लिखे ताकि सामाज को ये पता चल सके की हिंदुस्तान के अकेले ऐसे शहर जिसको नदी दो भागों में बाटती है, यानी जौनपुर हिन्दुस्तान का अकेला ऐसा शहर है ,जिसके बीच से नदी बहती है, वो नदी भी प्रदूषद के अभिशाप से मुक्त नही है । .....रही बात एटम बम की तो फोटो में इतना अच्छा जान पड़ता है तो मुँह में जाने के बाद क्या हाल होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. हमें परिवर्तन के बारे में सोचना होगा और सार्थक कदम भी उठाने होंगे। लेख प्रेरक है।


    ---
    चर्चा । Discuss INDIA

    उत्तर देंहटाएं
  24. "इन नदियों के लिए आवाज़ कौन उठाएगा?"
    अच्छा सवाल उठाया है आपन. मगर ऐसा लगता है कि आवाज़ उठाने वाली स्थिति से आगे निकल आये हैं हम - अब तो कुदाल (और शायद जल सुधारक संयंत्र भी) उठाने का समय है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. Uncle! achhe bachhe mithai nahin khate.Par ap denge to mana nahin karungi.

    उत्तर देंहटाएं
  26. रसीला एटमबम भा गया। लेकिन, सई की दुर्दशा देखकर मन खट्टा हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  27. डा. साहब हम भी ऎटम बम भोग चुके हैं . और सई नदी का दर्द भी हमारा अपना है.हमारे जिले प्रतापगढ़ में तो खूब घूम के बही है. बहुत नहाये हैं , पर अब उसे देख मन भर जाता है दर्द से .

    उत्तर देंहटाएं
  28. sir, apne to jaunpur ki tasir khich di hai.
    jai se ek hi ghar me garib parivar aur amir parivar sath-sath rah rahe ho. HAPPY KRISHNA JANM ASTAMI.SANTOSH PANDEY .

    उत्तर देंहटाएं
  29. Priya Bandhu,
    aapney bahut purani yadey taaza kar dee, merey mama ji kabhi ,jeevit rahtey isi atom bomb ka swad chakhaya kartey they, ab na mama ji rahe na wo swad hi, aaj aapney mun ke puraney dwar khol diye, hardik dhanyavaad,aabhar.
    aapka hi
    dr.bhoopendra

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !