मंगलवार, 16 जून 2009

एक पल ही जियो ...


एक पल ही जियो ,फूल बन कर जियो ,
शूल बन कर ठहरना नहीं जिन्दगी ||
अर्चना की सजोये हुए अंजली ,
तुम किसी देवता से मिलो तो सही |
जिन्दगी की यहाँ अनगिनत डालियाँ ,
तुम किसी पर सुमन बन खिलो तो सही ||
एक पल ही जियो ,तुम सुरभि बन जियो ,
धूल बन कर उमड़ना नहीं जिन्दगी ||
तम -भरी वीथीयों के अधूरे सपन ,
कुमकुमी बांसुरी पर बजाते चलो |
रात रोये हुए फूल की आँख में ,
ज्योति की नव किरण तुम सजाते चलो ||
एक पल ही जियो प्रात बन कर जियों ,
रात बन कर उतरना नहीं जिन्दगी |
चेतना के किसी भी क्षितिज से उठो ,
याचना के नयन -कोर परसा करो |
जिस लहर पर उड़ो,जिस डगर पर बहो ,
कामना की सुधा -बूँद बरसा करो ||
एक पल ही जियो ,तुम जलद बन जियो ,
वज्र बन कर घहरना नहीं जिन्दगी |
वेदना की लहर में डुबोये न जो ,
धार में डूबते को किनारा बने ,
शोक जब श्लोक की पूनमी छावं में ,
पंथ -हारे हुए को किनारा बने ||
एक पल ही जियो ,गीत बन कर जियो ,
अश्रु बनकर बिखरना नहीं जिन्दगी |
काल के हाथ पर भाव की आरती ,
बन सदा स्नेह से लौ लगाते चलो ,
देह को ज्योति-मन्दिर बनाते चलो ,
साँस की हर लहर जगमगाते चलो ||
एक पल ही जियो ,दीप बन कर जियो ,
धूम बन कर घुमड़ना नहीं जिन्दगी |


(जौनपुर के प्रख्यात कवि " साहित्य वाचस्पति " श्री पाल सिंह " क्षेम " के द्वारा लिखी गयी यह रचना १९५५ से १९६७ के बीच कभी सृजित की गयी थी .इसकी लोकप्रियता का
आलम यह है कि तत्कालीन दौर में तथा आज भी कविसम्मेलनों में श्रोताओं की सबसे पसंदीदा रचना हुआ करती है .)

49 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सकारात्मक भाव लिए रचना पसंद आई. आभार इस प्रस्तुति का.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना. आभार इसे पढवाने के लिये.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत दिनों बाद इस रचना का रस लेने को मिला।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक पल ही जियो ,फूल बन कर जियो ,
    शूल बन कर ठहरना नहीं जिन्दगी ||

    बहुत ही सुन्‍दर भाव, इसकी प्रस्‍तुति के लिये आपका ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन की सारी गिरहें खोल दीं हैं आपने, वाह!

    ---
    तख़लीक़-ए-नज़र

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर ,मनभावन कविता.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता तो बहुत ही सुन्दर लगी. प्रस्तुति के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्षेम जी की उम्दा रचना प्रस्तुत करनें के लिए आपको बधाई ,आपको याद थी क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्षेम जी की उम्दा रचना प्रस्तुत करनें के लिए आपको बधाई ,आपको याद थी क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस सुंदर ओर एक सकारात्मक रचना रचना के लिये आप का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस गीत ने एक युग को साकार कर दिया मानो

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस शिल्प और भाषा की रचनाएँ अब कम ही होती हैं। इस रचना को पढ़ कर आनंद आया।

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता तो बहुत अच्छी है और पिछली पोस्ट के एटम बम भी. ये एटम बम कहीं और नहीं मिलते क्या?
    (आपका टिपण्णी बक्सा कई बार टिपण्णी ही नहीं करने देता !)

    उत्तर देंहटाएं
  14. वास्तव में बहुत सुन्दर कविता है। और अभिषेक का कथन सही है टिप्पणी बक्से के बारे में।

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्षेम जी की उम्दा रचना प्रस्तुत करनें के लिए आपको बधाई ..
    आप का ब्लाग अच्छा लगा...बहुत बहुत बधाई....
    एक नई शुरुआत की है-समकालीन ग़ज़ल पत्रिका और बनारस के कवि/शायर के रूप में...जरूर देखें..आप के विचारों का इन्तज़ार रहेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  16. जीने का अंदाज़ सिखाती यह कविता बहुत पसंद आई.....पढ़वाने का शुक्रिया....

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    उत्तर देंहटाएं
  17. Ye kavita to apne bahut achhi lagayi hai...

    aur apki pichli post bhi vakai kabil-e-tarif hai...

    उत्तर देंहटाएं
  18. काफी गहरे है क्षेम जी की कविता के एक-एक शब्द , और हो भी क्यों न आख़िर पूर्वांचल की शान है क्षेम जी। एक शानदार कविता पढवाने का शुक्रिया । ..............

    उत्तर देंहटाएं
  19. bade dinon baad tippanee de rahee hun..yaa dene kaa sahas kar rahee hun !

    atyant sundar rachna se ru-b-ru karaya aapne...! Tahe dilse shukriya!

    Mere blogs kee bhee URLs badal gayeen hain..yaa badalnee pad gayeen..

    links likh rahee hun...aapka aur aapke anubhavi maargdarshan kaa intezaar rahega!

    http://kavitasbysham.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    any blogs ke links in blogs pe mil jayenge!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. http://kavitasbyshama.blogspot.com

    maine typing galat kee thee...!Kshama karen!

    उत्तर देंहटाएं
  21. एक पल ही जियो ,फूल बन कर जियो ,
    शूल बन कर ठहरना नहीं जिन्दगी |
    बहुत सुन्दर जीवन के प्रति सकारात्मक भाव जगाती प्रेरक कविता
    क्षेम जी को बधाई और आपका धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ख़ूबसूरत, रोचक और शानदार कविता लिखने के लिए ढेर सारी बधाइयाँ! आपकी हर एक कविता प्रशंग्सनीय है!

    उत्तर देंहटाएं
  23. एक पल ही जियो ,फूल बन कर जियो ,
    शूल बन कर ठहरना नहीं जिन्दगी |
    प्रस्तुति के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  24. Jaunpur ko apne bloging dwara charcha men rakha hai..yahi kya kam hai...badi manmohak kavita hai.
    ____________________________________________
    अपने प्रिय "समोसा" के 1000 साल पूरे होने पर मेरी पोस्ट का भी आनंद "शब्द सृजन की ओर " पर उठायें.

    उत्तर देंहटाएं
  25. ऐसी सदाबहार रचना से अवगत करने का तहे दिल से स्वागत है.
    हार्दिक आभार.
    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  26. Bahut sundar kavita ko padhavane ke liya dhanyvad...
    Regards...
    DevPalmistry

    उत्तर देंहटाएं
  27. मिश्र जी क्षेम जी कविता को प्रशारित करने के लिए बहुत बहुत धन्यबाद वैसे तो मैं कई बार ये पढ़ चूका हूँ पर हर बार कुछ नया मिलता है आप का बहुत बहुत आभार
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  28. ताजातरीन, सदाबहार रचना ................ शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपकी अद्भुत सृजनशीलता का कायल हूँ....वाकई आपकी रचना तमाम रंग बिखेरती है...साधुवाद.***
    "यदुकुल" पर आपका स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  30. एक पल ही जियो ,दीप बन कर जियो ,
    धूम बन कर घुमड़ना नहीं जिन्दगी |

    कविता अच्छी है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहतरीन कविता की प्रस्तुति के लिये बधाई मनोज जी...... क्षेम जी की अन्य रचनाएं भी दें...

    उत्तर देंहटाएं
  32. आप लिख ही नहीं रहें हैं, सशक्त लिख रहे हैं. आपकी हर पोस्ट नए जज्बे के साथ पाठकों का स्वागत कर रही है...यही क्रम बनायें रखें...बधाई !!
    ___________________________________
    "शब्द-शिखर" पर देखें- "सावन के बहाने कजरी के बोल"...और आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  33. Iski lokpriyata ke bare mein nahi pata. ham to first time padh rahe hain...... aur sach mein kamaal hain.......Itni achchi kavita padhwane ka shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुन्दर कविता है . पढ़वाने का शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह! बहुत ही प्यारी कविता है. मेरा ख़याल है कि ब्लॉग जगत के बहुत लोग क्षेम जी के बारे में कोई जानकारी नहीं रखते होंगे. अगर संभव हो तो उनके बारे में आप पूरी जानकारी देकर लोगों को उनसे परिचित कराने का पुण्यकार्य ज़रूर करें. यह हिन्दी ब्लॉग जगत की एक बड़ी उपलब्धि होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  36. एक-एक पल की सार्थकता समझाती कविता..
    मन को भा गयी है,
    एक नया एहसास जगा गयी है

    उत्तर देंहटाएं
  37. कविता बहुत अच्छी लगी. सब ठीक कह रहे हैं, हमें भी क्षेम जी के बारे में कोई जानकारी नहीं है सो उनका परिचयनामा स्वागतयोग्य है.

    उत्तर देंहटाएं
  38. काल के हाथ पर भाव की आरती ,
    बन सदा स्नेह से लौ लगाते चलो ,
    देह को ज्योति-मन्दिर बनाते चलो ,
    साँस की हर लहर जगमगाते चलो ||
    -बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ.

    -सकारात्मक भाव लिए प्रेरणादायक कविता .

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत सुन्दर कविता है। आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत सुन्दर कविता। हमें नहीं रोक रहा टिप्पणी बक्सा। सबेरे से सटासट किये जा रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !