बुधवार, 17 मार्च 2010

राजा श्री राम चन्द्र जी और उनके पांच हजार सैनिक ....


पिछले दिनों मैं अयोध्या में था और अपने प्रवास की बात कर रहा था .श्री राम जन्मभूमि परिसर में सुरक्षा के लिए लगभग पांच हजार जवान लगे हैं.श्री राम लला के दर्शन के दौरान मैंने अपनें साथ गये एक पत्रकार मित्र से कहा कि वाह ,क्या चाक-चौबंद व्यवस्था है,वाकई यहाँ तो परिंदा भी पर नहीं मार सकता.मेरे पत्रकार मित्र नें कहा कि कि अब राजा केलिए इतने सेवक-सैनिक तो रहेंगे ही.उनके कहने का अंदाज़ ऐसा था कि मुझे हंसी आ गयी .मैंने उनसे कहा कि यह आप क्या कह रहे हैं .उन्होंने कहा मैं सही कह रहा हूँ यहाँ सब के सब श्री राम लला की सेवा में ही तो है,अब राजा हैं तो सेवक होने चाहिए न.बिना सेवक के कैसा राजा।
मुझे कनक भवन में बहुत शांति मिली . इसी भवन में सीता जी निवास करती थी,जो कि रानी कैकेयी द्वारा उन्हें मुंह - दिखाई में दिया गया था.सुरक्षा कारणों के चलते अन्य
कहीं भी फोटोग्राफी की अनुमति नहीं थी,लेकिन कनकभवन में मौका मिला -कुछ चित्र हम ले आये--





25 टिप्‍पणियां:

  1. सचित्र सुंदर प्रस्तुति..हालात ही ऐसे हो गये की भगवान को सुरक्षा की ज़रूरत पड़ गई....बढ़िया प्रस्तुति के लिए आभार मनोज जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बात सही है. अजकल के राजाओं की सुरक्षा मे भी इससे ज्यादा सैनिक लगते हैं.

    चित्र वाकई सुंदर हैं. हमने तो पहले बार देखे. बहुत धन्यवाद.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. भारतीयो की आदत है कि नियम विरूद्ध कुछ काम कर ही लेते है,जैसे आप फोटो खीच लाये। सचित्र पोस्‍ट बहुत अच्‍छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भारतीयो की आदत है कि नियम विरूद्ध कुछ काम कर ही लेते है,जैसे आप फोटो खीच लाये। सचित्र पोस्‍ट बहुत अच्‍छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब ऐसी कड़क सुरक्षा !!
    मैं ९३ में यहाँ देखने गयी थी..तब तो इस भवन के पास का रास्ता भी मिटटी का था.
    और ऐसी कोई भी सुरक्षा व्यवस्था नहीं थी.
    चित्र देखते ही यादें ताज़ा हो गयीं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कब तक रहेगें भगवान इस तरह सुरक्षित?

    उत्तर देंहटाएं
  7. Mai Aap K Patrkar Mitr Ki Baat Se Sahmat Hoon
    "Jab Raja Hoga To Sena Aur Sevak Bhi Honge"
    Sundr Chitrad.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी चित्र बहुत सुंदर जी, लेकिन क्या यह सच मै राम चंद्र जी के समय के महल होगे??

    उत्तर देंहटाएं
  9. जै हो रामजी की. जब तक देश जेहादियों के चुंगल में नहीं आ जाता, राजा सैनिकों के साथ मजे से रह ले...फिर देखेंगे...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया सचित्र प्रस्तुति
    महेंद्र मिश्र
    समयचक्र - चिट्ठी चर्चा .

    उत्तर देंहटाएं
  11. @महाशक्ति जी ,इस स्थान पर फोटो लेने की स्वीकृति थी,इसलिए खीच लाये.
    @राज साहब ,उस समय के महल कैसे संभव हो सकते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. Kaisi vidambana hai ki, mandiron/masjid kee suraksha karni pade! Aisi jagahen jahan log manki shanti aur wishwas ke liye jate hain!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी मौका मिला तो हम भी जायेंगे तब तक आपही घुमा दीजिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. राम जी की दया से और आपके प्रयास से राम लला के दर्शन हो गए...

    उत्तर देंहटाएं
  15. हाँ हमने भी देखी है ऐसा ही पुलिसिया बंदोबस्‍त। बढिया लगी आपकी पोस्‍ट।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सटीक सचित्र यात्रा वृतांत..
    दुख भी होता है..कि जो श्रीराम राजा होने पर जिस राज्य की प्रजा का कुशल-क्षेम जानने के लिये वेश बदल कर गलियों मे घूमा करते थे..उन्हे ईश्वर बनाने के बाद उसी जनता और उनके बीच ५००० अंगरक्षकों की दीवार खड़ी कर दी गयी है..मानवीय दुर्भाग्य है ..और क्या..या ज्यादा सहज है कलयुग पर दोषारोपण!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. ईश्वर भी सुरक्षा के घेरे में ! अब क्या शेष रहा ?
    इस सचित्र प्रस्तुति का आभार । मूर्ति-विग्रहों के चित्र खूब लुभा गये । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ख़ूबसूरत चित्रों के साथ आपने बहुत ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! इस उम्दा पोस्ट के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर , बचपन के दिन याद दिला दिए . धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह! अभी मन किया कि जाकर देखकर आयें कनक भवन!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह! अभी मन किया कि जाकर देखकर आयें कनक भवन!
      AKHILESH MISHRA

      हटाएं
    2. वाह! अभी मन किया कि जाकर देखकर आयें कनक भवन!
      AKHILESH MISHRA

      हटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !