शुक्रवार, 31 अक्तूबर 2008

तो कहाँ जायेंगे ये खरगोश , साँप और बिल्लियाँ ?

कल हमारे विश्वविद्यालय के एक सहयोगी शकुन-अपशकुन को लेकर मुझसे उलझ पडे . कारण यह था कि वे सुबह से ही परेशान थे ,किसी क्लास या ब्याख्यान में उनका मन नही लग रहा था .बार -बार कुरेदे जाने पर उन्होंने कहा कि आज रास्ते में आते समय बिल्ली ने उनका रास्ता काट दिया - देखिये शाम तक क्या होता है .मैंने कहा कि आप भी अजीब हैं ,दुनिया कहाँ से कहाँ पंहुच गयी, एक आप हैं कि अपनी केचुल छोड़ना ही नही चाहते , इस वैज्ञानिक युग में आप भी ......| फिर वे मुझे बताने लगे कि हम लोगों की सांस्कृतिक मान्यता के अनुसार यात्रा में खरगोश ,साँप और बिल्ली का पड़ना अशुभ माना जाता है .एक तो आज दिशा- शूल में एक रिश्तेदार के घर से सीधे विश्वविद्यालय आया और फिर रास्ते में बिल्ली ने रास्ता भी काट दिया . फिर उन्होंने दिशा -शूल को और परिभाषित किया -
सोम ,शनिश्चर ,पूरब न चालू ,
मंगल ,बुध उत्तर दिशि कालू ,
बेफय के दक्खिन जो जाय,
चार लात रस्ते में पाय .
मैंने कहा ये सब बकवास है ,आपकी कोई भी बात वैज्ञानिक मान्यताओ पर खरी नही उतरती ,लेकिन चलिए कुछ देर के लिए यदि हम आप की बात मान भी ले तो अब एक बात हमारी भी सुनिए - हमारे पंचांगों में राहु काल,भद्रा,मृत्युबान सहित कुल ३० मुहूर्त हैं ,आप उनमे से कितनो को आप जानते हैं और कितनों का पालन करते हैं ,इसके साथ ही दिन भर चौघडिया का मुहूर्त रहता है जो समय -समय पर बदलता रहता है .इसमे कई घातक योग होते हैं ,यदि आप यह सब मानते हैं तो आप को सब मानना चाहिए तथा इस हिसाब से महीने के १५ दिन आपको घर के अन्दर ही बंद रहना चाहिए .नौकरी को छोडिये क्या जरूरत है, जान है तो जहान है . मैंने कहा भइये जब से मानव ने जल,थल ,नभ पर कब्जा जमा लिया है तो ये जंगल और बागों में रहने वाले जीव कहाँ जायेंगे . इनका तो वैसे भी गुजारा मानवों के साथ ही प्रारम्भ से रहा है .खैर बहस अधूरी ही रही .उनको कही से तुरंत बुलावा आ गया .लेकिन एक बड़ा सवाल छोड़ गए कि यदि हम मनुष्य, आस -पास रहने वाले इन जीवों से इतना डरेंगें,नफरत करेंगें या फिर अपशकुन मानेंगे तो फिर कहाँ जायेंगे ये खरगोश , साँप और बिल्लियाँ ?

15 टिप्‍पणियां:

  1. यदि हम मनुष्य, आस -पास रहने वाले इन जीवों से इतना डरेंगें,नफरत करेंगें या फिर अपशकुन मानेंगे तो फिर कहाँ जायेंगे ये खरगोश , साँप और बिल्लियाँ ?
    बहुत सही सवाल है आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने बिल्कुल सही लिखा है ! शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब क्या बतायें, राहुकालम चल रहा है। ढ़ंग की टिप्पणी भी कैसे करें! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. लेकिन एक बड़ा सवाल छोड़ गए कि यदि हम मनुष्य, आस -पास रहने वाले इन जीवों से इतना डरेंगें,नफरत करेंगें या फिर अपशकुन मानेंगे तो फिर कहाँ जायेंगे ये खरगोश , साँप और बिल्लियाँ ?
    " very well said and question raised really require concern, read it and enjoyed "

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  5. मनुष्य के आस -पास रहने वाले इन जीवों में से सबसे खतरनाक जीव मनुष्‍य ही है, जब हम उससे नफरत करना नहीं छोडते तो खरगोश, बि‍ल्‍ली तो बेचारे तुच्‍छ प्राणी हैं :(

    उत्तर देंहटाएं
  6. सबसे बड़ा खतरा तो ख़ुद मनुष्य है इन सब प्राणियो के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे वाह, आप तो आए और छा गये। ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सहमत हूँ, वैसे बिल्लियों के लिये हम जैसे मनुष्य भी अपशकुनी ही होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  9. jab tak hindustan hai tab tak dharmik bhawnaye aur rudiwadita sirf hamare aage aane se kuch nahi hooga ham sabhi ko kam se kam 1000 logo ko scinse ki mahata aur rudhiwadita se ho rahe nuksan ke bare me jagruk karna hoga.
    saiyed faiz hasnain.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !