बुधवार, 27 जनवरी 2010

अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया..........

खुशी हद से बढ़ी तो गए मुस्कान को आंसू
कहीं कोई लुटा तो गये ईमान को आंसू
चढ़ाकर लूट की संपत्ति तुमनें जीत माँगी तो
पुजारी मुस्कराया गये भगवान को आंसू

पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया

तुम्हारे पास बल है बुद्धि है विद्वान भी हो तुम
इसे हम मान लेतें हैं बहुत धनवान भी हो तुम
विधाता वैभवों के तुम इसे भी मान लेते हम
मगर यह बात कैसे मान लें इंसान भी हो तुम

लगा ली गले से नफरत मुहब्बत तक नहीं पहुंचे
बसाया झूठ को दिल में सदाकत तक नहीं पहुंचे
सितारों तक तुम्हारा यह सफर किस काम का जब तुम
अँधेरे में सिसकती आदमियत तक नहीं पहुंचे
( रचना - स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी )






33 टिप्‍पणियां:

  1. लगा ली गले से नफरत मुहब्बत तक नहीं पहुंचे
    बसाया झूठ को दिल में सदाकत तक नहीं पहुंचे
    सितारों तक तुम्हारा यह सफर किस काम का जब तुम
    अँधेरे में सिसकती आदमियत तक नहीं पहुंचे ।
    बहुत सुन्दर कविता।स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी को शत शत नमन । आपका धन्यवाद उनकी ये रचना पढवाने के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी कॊ उम्दा रचना प्रस्तुत करने का आभार! आनन्द आया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता बहुत सुन्दर है, भाव, शब्द सौन्दर्य, शिल्प सभी तरह से. हो सके तो त्रिपाठी जी की कलम के कुछ और नगीने यहाँ रखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी की यह रचना बहुत अच्‍छी लगी .. ऐसी अन्‍य रचनाओं का भी इंतजार रहेगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी की ये अनुपम रचना प्रस्तुत करने पर आभार....
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुशी हद से बढ़ी तो आ गए मुस्कान को आंसू
    कहीं कोई लुटा तो आ गये ईमान को आंसू
    चढ़ाकर लूट की संपत्ति तुमनें जीत माँगी तो
    पुजारी मुस्कराया आ गये भगवान को आंसू ।

    स्व. त्रिपाठी जी की इस श्रेष्ट कृति को पढ़ाने के लिए आपका शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह रचना बहुत अच्‍छी लगी..त्रिपाठी जी की इस श्रेष्ट कृति को पढ़ाने के लिए आपका शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. लगा ली गले से नफरत मुहब्बत तक नहीं पहुंचे
    बसाया झूठ को दिल में सदाकत तक नहीं पहुंचे
    सितारों तक तुम्हारा यह सफर किस काम का जब तुम
    अँधेरे में सिसकती आदमियत तक नहीं पहुंचे ।

    बहुत ही बढिया!!
    इस बहुमूल्य कृ्ति को प्रस्तुत करने के लिए आप धन्यवाद के पात्र है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
    मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
    भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया ...

    कविता का हर छन्द ग़ज़ब की रवानी और सच्चाई लिए है ....... शुक्रिया इस रचना को पढ़वाने के लिए .......

    उत्तर देंहटाएं
  10. "पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
    मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
    भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया।"

    मनोज जी रूप नारायण त्रिपाठी जी की ये रचना पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. इतनी बेहतरीन रचना पढवाने के लिये आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशी हद से बढ़ी तो आ गए मुस्कान को आंसू
    कहीं कोई लुटा तो आ गये ईमान को आंसू
    चढ़ाकर लूट की संपत्ति तुमनें जीत माँगी तो
    पुजारी मुस्कराया आ गये भगवान को आंसू ।
    बहुत अच्छी रचना. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. तुम्हारे पास बल है बुद्धि है विद्वान भी हो तुम
    इसे हम मान लेतें हैं बहुत धनवान भी हो तुम
    विधाता वैभवों के तुम इसे भी मान लेते हम
    मगर यह बात कैसे मान लें इंसान भी हो तुम।

    बिना इंसानियत के तो कंगाल ही रहते हैं।
    सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ----------इतनी बेहतरीन रचना है कि आपको बार-बार प्रस्तुति हेतु धन्यवाद.
    क्या अच्छा होता कि इस रचना का आप सस्वर पाठ किये होते---------------

    उत्तर देंहटाएं
  15. ताजा हवा के एक झोंके समान इस प्रस्तुति के लिये आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  16. स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी की यह रचना बहुत अच्‍छी लगी .. ऐसी अन्‍य रचनाओं का भी इंतजार रहेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  17. पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
    मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
    भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया।

    कमाल की रचना है. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बड़ी ही प्यारी रचना है स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी जी की ..
    प्रवाह में भावों को भी साधना आसान नहीं होता ! .... आभार ,,,

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या बात है जी। एकदम रच बस कर लिखा गया है। बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  20. कविता पढवाने के लिये बहुत धन्यबाद

    उत्तर देंहटाएं
  21. तुम्हारे पास बल है बुद्धि है विद्वान भी हो तुम
    इसे हम मान लेतें हैं बहुत धनवान भी हो तुम
    विधाता वैभवों के तुम इसे भी मान लेते हम
    मगर यह बात कैसे मान लें इंसान भी हो तुम।
    बहुत अच्छी लगी खासकर ये पंक्तियाँ! सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  22. स्व.पंडित रूप नारायण त्रिपाठी की अद्भुत रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  23. भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया।
    ...वाह! स्व० रूपनारायण त्रिपाठी जी ने कितनी बड़ी बात कितने सहज ढंग से लिखा है.
    ,,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  24. 'पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
    मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
    भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया।'

    अद्भुत !!

    स्व.रूपनारायण त्रिपाठी जी की इस बेहतरीन कृति को पढ़ाने के लिए आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  25. पराई पीर का प्याला तुम्हे पीना नहीं आया
    मनुजता का फटा आंचल तुम्हे सीना नहीं आया
    भले ही तुम फरिश्तों की तरह बातें करो लेकिन
    अभी तक आदमी बनकर तुम्हे जीना नहीं आया।
    ...Behad sundar bhav.

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut hi umda. Sir ek raaz ki baat, apk jo kavita post karte hain main uska printout lekar rakh leta hoon. Fir sathiyon ko sunata hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  27. लगा ली गले से नफरत मोहब्बत तक नहीं पहुंचे
    बसाया झूट को दिल में सदाकत तक नहीं पहुंचे
    सितारों तक तुम्हारा ये सफ़र किस काम का जब तुम
    अँधेरे में सिसकती आदमियत तक नहीं पहुंचे ।
    बेशक तुम्हे अभी तक आदमी बन कर जीना नहीं आया ............
    स्व० पंडित रूप नारायण त्रीपाठी जी को शत -शत नमन ............

    उत्तर देंहटाएं
  28. लगा ली गले से नफरत मोहब्बत तक नहीं पहुंचे
    बसाया झूट को दिल में सदाकत तक नहीं पहुंचे !

    बेहतरीन शब्‍द रचना, प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर! इसे अपनी आवाज में भी पोस्ट/पॉडकास्ट करिये।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे ब्लॉग जीवन लिए प्राण वायु से कमतर नहीं ,आपका अग्रिम आभार एवं स्वागत !